Shri Rajnath Singh interaction with Media in Varanasi, Uttar Pradesh

वाराणसी में गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह की प्रेस वार्ता के प्रमुख बिंदु

वाराणसी में एक प्रेस को संबोधित करते हुए गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा की प्रधानमंत्री कोई व्यक्ति नहीं होता, प्रधानमंत्री स्वंय में एक संस्था है जिसकी गरिमा बनाये रखना जरुरी है उन्होंने ये भी कहा की हमारा उत्तर प्रदेश में सरकार बनाने का उदेश्य ये है की उत्तर प्रदेश न केवल उत्तम बल्कि सर्वोतम राज्य बने.

उन्होंने आगे कहा की यूपी के सीएम बोलते है की पीएम अपने कामकाज का हिसाब दें। अखिलेश को यह पता नहीं की संघीय ढांचा बेहद आवश्यक होता, जिसमें राज्य सरकार को भी अपनी ज‍िम्मेदारी निभानी होती है यूपी की सरकार को ये नहीं भूलना चाहिए कि विकास का 80 फीसदी काम राज्य सरकारों के माध्यम से ही होता है इस के बाबजूद हमरी केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश के विकास के लिए हर जरुरी कदम उठाये इस के तहत केंद्र की बहुत सारी योजनायें उत्तर में सुचारु रूप से लागू की.

उत्तर प्रदेश के लिए भाजपा का क्या विजन है इस का उल्लेख करते हुए गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा जैसा की हमने अपने संकल्प पत्र मैं कहा था भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश के लिए जो सपने देखे है, जो वादे किये है, वह महज घोषणाओं का पिटारा नहीं बल्कि हमारी प्रतिबद्धता का प्रतिबिम्ब है। गत पन्द्रह वर्षों से पिछड़ेपन से ग्रस्त उत्तर प्रदेश को अब घोषणाओं के पृष्ठों की बजाय संकल्पों के ठोस दस्तावेज की जरूरत है, और हमारा संकल्प पत्र हमारे संकल्पों का ठोस दस्तावेज है।

लखनऊ मेट्रो की बहुत चर्चा की जाती है। इसमें 80 फीसदी कंट्रीब्यूशन सेंट्रल गवर्मेंट का होता है।

सेंट्रल गवर्मेंट ने 11 हजार स्कूलों में नए शौचालय बनवाए।

865 किलोमीटर लंबे हाईवे का निर्माण कराया।

यूपी में उत्तर प्रदेश में 4 लाख लोगों को अटल पेंशन दी गई है।

उत्तर प्रदेश के 3 करोड़ लोगों का जनधन खाता खोला गया है। गरीब महिलाओं को गैस कनेक्शन बांटे गए।

छोटे उद्दमियों को 20 हजार करोड़ से ज्यादा कम ब्याज दर पर कर्ज दिया गया।

लगभग 1400 गांव में बिजली पहुंचाई गई

यूपी को सेंट्रल गोवेर्नमनेट की ओर से इतना बड़ा रेवेन्यू आज तक नहीं मिला, इसलिए आरोप लगाने से पहले सीएम को सोचना चाहिए।

सरकार ने रेवेन्यू को 32 फीसदी से बढ़ाकर 42 फीसदी कर दिया

                   
ShareThisShare on FacebookTweet about this on TwitterShare on LinkedInShare on Google+Pin on PinterestEmail this to someoneDigg thisFlattr the authorShare on StumbleUponShare on TumblrBuffer this pagePrint this page
Back to Top